24.1 C
Rishikesh
Saturday, May 28, 2022

हेयर एक्सटेंशन करवाने से पहले जानें क्‍ल‍िप और पर्मानेंट हेयर के बीच का अंतर

- Advertisement -

हेयर एक्सटेंशन करवाने से पहले जानें क्‍ल‍िप और पर्मानेंट हेयर के बीच का अंतर

हेयर एक्‍सटेंशन एक प्रक्र‍िया होती है ज‍िसमें बालों को कृत्रिम रूप से लंबा क‍िया जाता है। आप भी अपने बालों को लंबा और घना करवाने के ल‍िए ये प्रक्र‍िया अपनाने वाले हैं तो आपको कुछ जरूरी बातें जान लेनी चाह‍िए जैसे हेयर एक्‍सटेंशन मुख्‍य रूप से दो तरह के होते हैं पहला पर्मानेंट हेयर एक्‍सटेंशन और दूसरा होता है क्‍ल‍िप-इन हेयर एक्‍सटेंशन। इस लेख में हम पर्मानेंट हेयर और क्‍ल‍िप-इन हेयर एक्‍सटेंशन के बीच का फर्क, दोनों के फायदे और नुकसान आद‍ि व‍िषयों पर चर्चा करेंगे।

hair extention side effects

image source:hearstepp.com

पर्मानेंट और क्‍ल‍िप-इन हेयर एक्‍सटेंशन में क्‍या फर्क होता है? (Permanent and clip-in hair extension)

1. पर्मानेंट हेयर एक्‍सटेंशन (Permanent hair extension) में कृत्रिम बालों को आपके असली बालों के साथ लगाया जाता है, ये हफ्ते या महीनों तक आपके बालों के साथ लगे रह सकते हैं। इन्‍हें आपको रोजाना न‍िकालना नहीं पड़ता है, साथ ही इनकी देखभाल भी आपको रोजाना नहीं करनी पड़ती। पर्मानेंट हेयर एक्‍सटेंशन की कीमत, क्‍ल‍िप-इन हेयर एक्‍सटेंशन से ज्‍यादा होती है। पर्मानेंट हेयर एक्‍सटेंशन में कैमिकल की मदद से कृत्रिम बालों को, असली बालों के साथ लगाया जाता है। 

फायदे (Advantages)

  • लंबे समय तक स‍िर पर कृत्रिम बाल लगे रहते हैं। 
  • बार-बार कृत्रिम बालों की देखभाल नहीं करनी पड़ती।

नुकसान (Disadvantages)

  • पर्मानेंट हेयर एक्‍सटेंशन के ल‍िए बालों पर कैम‍िकल लगाना पड़ता है।
  • इस हेयर एक्‍सटेंशन की कीमत टेम्‍प्रोररी के मुकाबले ज्‍यादा होती है।
  • आप इन्‍हें खुद नहीं लगा सकते, इसके ल‍िए आपको सैलून जाना होगा।

2. क्‍ल‍िप-इन हेयर एक्‍सटेंशन (Clip-in hair extension), कृत्रिम बालों की टेम्‍प्रोररी प्रक्रिया है, ज‍िसमें कृत्रिम बालों को कभी भी न‍िकाला जा सकता है। इसे लगाने या न‍िकालने के ल‍िए प्रोफेशनल की मदद लेनी की जरूरत नहीं होती है। ये तरीका उनके ल‍िए है जो क‍िसी खास मौके पर लंबे या घने बाल चाहते हैं। क्‍ल‍िप-इन हेयर एक्‍सटेंशन लगवाने के ल‍िए आपको न तो सैलून जाना पड़ता है और न ही क‍िसी कैम‍िकल का इस्‍तेमाल करने की जरूरत पड़ती है। 

फायदे (Advantages)

  • कभी भी आप इन्‍हें न‍िकाल सकते हैं।
  • क्‍ल‍िप-इन हेयर्स की कीमत कम होती है।
  • इन्‍हें लगाने से बालों को नुकसान नहीं होता।
  • क्‍ल‍िप-इन हेयर्स लगाने के ल‍िए प्रोफेशनल की मदद नहीं लेनी पड़ती।

नुकसान (Disadvantages)

  • कम समय के ल‍िए ही इनका यूज कर सकते हैं।
  • इन्‍हें ठीक से न लगाने पर न‍िकल जाने का डर रहता है।

इसे भी पढ़ें- बालों में डैंड्रफ का कारण बन सकता है दूसरों के कंघी, तकिया और टोपी का इस्तेमाल, जानें बचाव के तरीके

हेयर एक्‍सटेंशन लगवाने से पहले इन बातों का रखें ख्‍याल 

hair extention

image source:google

  • हेयर एक्‍सटेंशन करवाने से पहले आपको इस बात का भी ध्‍यान रखना है क‍ि क‍िसी प्रोफेशनल हेयर एक्‍सपर्ट को ही चुनें नहीं तो आपके बाल को नुकसान हो सकता है।
  • हेयर एक्‍सटेंशन करवाने से पहले आपको इस बात का भी ध्‍यान रखना है क‍ि आप कैसा हेयर एक्‍सटेंशन खरीद रहे हैं, स‍िंथेट‍िक हेयर कम कीमत में म‍िल जाते हैं और असली हेयर से बने व‍िग ज्‍यादा महंगे हो सकते हैं।
  • आप अपने हेयर एक्‍सपर्ट से सलाह लेकर, हेयर एक्‍सटेंशन को स्‍टोर से या अच्‍छे व‍िग स्‍पलायर से खरीदें यहां आपको कम कीमत में अच्‍छे हेयर एक्‍सटेंशन म‍िल जाएंगे अगर आप सैलून से खरीदेंगे तो आपको महंगे रेट में एक्‍सटेंशन खरीदना पड़ सकता है। स्‍टोर पर आपको सही कीमत और वैरायटी म‍िल जाएगी।
  • हेयर एक्‍सटेंशन लगवाने से पहले आपको तय करना होगा क‍ि आपको पर्मानेंट हेयर एक्‍सटेंशन करवाना है या टेम्‍प्रररी, फ‍िर आपको हेयर एक्‍सपर्ट से बात करनी चाह‍िए, आपको दोनों ही तरह के एक्‍सटेंशन करवाने के साइड इफेक्‍ट्स और फायदे के बारे में जानकारी लेकर हेयर एक्‍सटेंशन का मेथड चुनना है।
  • हेयर एक्‍सटेंशन के बाद इस बात का ध्‍यान रखें क‍ि आपके कृत्रिम बाल, असली बालों से मेल खाने चाह‍िए जि‍ससे पता न चले क‍ि आपने हेयर एक्‍सटेंशन करवाया है, साथ ही आप अपने ह‍िसाब से हेयर कट करवा लें ताक‍ि दोनों बाल एक-दूसरे में म‍िल जाएं।

क्‍ल‍िप-इन हेयर एक्‍सटेंशन सस्‍ते हैं, इन्‍हें कभी भी लगाया जा सकता है और इससे बालों को क‍िसी तरह का कोई नुकसान भी नहीं होता, इसल‍िए आपके ल‍िए ये एक सेफ मेथड है वहीं पर्मानेंट हेयर्स को लंबे समय तक लगाया जा सकता है पर उनकी कीमत ज्‍यादा है और उसमें कैम‍िकल का यूज क‍िया जाता है।

main image source:google

- Advertisement -

Related Articles

Latest Articles